गुरुवार, 11 दिसंबर 2008

...एक तश्वीर जिन्दगी की

.....एक डायरी....एक खुली डायरी....जिसे आप पढ़ सकें...जिसे आप जान सकें। खुद को जानने समझने की कोशिश आप हर रोज करते हैं। टुकड़ों-टुकड़ों में आप खुद को जानते भी हैं...।....तो यह कहानी होगी मेरी और आपकी भी।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें